Maha Mrityunjaya Mantra in Hindi | Benefits | Vidhi

Advertisement

Maha Mrityunjaya Mantra in Hindi: भगवान भोलेनाथ का महामृत्युंजय मंत्र बहुत ही सभी दोषों को दूर करने वाला बहुत ही शक्तिशाली मंत्र हैं। वेदों में इस मंत्र की महिमा का बखान किया हुआ है। ऐसा कहा जाता है इस मंत्र के जाप से मरे हुए व्यक्ति को भी कुछ क्षण के लिए जीवन की प्राप्ति हो जाती है। इस मंत्र का जाप करने से अभी प्रकार की मानसिक व शारीरिक पीड़ा का नाश होता है। Maha Mrityunjaya Mantra का जाप करने से आयु, बुद्धि, यश और बल की वृद्धि होती है। तो आइये सबसे पहले हम Maha Mrityunjaya Mantra in Hindi के बारे में जानते हैं। 

Maha Mrityunjaya Mantra in Hindi

Maha Mrityunjaya Mantra in Hindi

हमारे सनातन धर्म में जितने भी मंत्रों का उच्चारण किया जाता है उन सभी को जपने की विधि, लाभ और उनके अर्थों को भी वेदों में लिखा गया है। वैसे तो सभी सनातन धर्म के लोगों को महामृत्युंजय मंत्र भली भांति याद होता है लेकिन बहुत कम लोग ऐसे होते हैं जिन्हें महामृत्युंजय मंत्र का हिंदी में अर्थ पता होगा। तो चलिए हम आपको महामृत्युंजय मंत्र का हिंदी में अर्थ बताते हैं। 

Maha Mrityunjaya Mantra - 

ऊँ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। 

ऊर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्। 

जैसा की आप देख रहे हैं ऊपर हमने महामृत्युंजय मंत्र को संस्कृत में लिखा है अब हम आपको इस मंत्र के एक-एक अक्षर का हिंदी में मतलब बताएँगे। ताकि आप गहराई से इस मंत्र का हिंदी में मतलब समझ पाओ। 

ॐ - ॐ शब्द

त्रयंबकम- त्रि.नेत्रों वाला कर्मकारक। 

यजामहे- हम पूजते हैं, सम्मान करते हैं। हमारे श्रद्देय। 

सुगंधिम- मीठी महक वाला, सुगंधित। 

पुष्टि- एक सुपोषित स्थिति, फलने वाला व्यक्ति। जीवन की परिपूर्णता 

वर्धनम- वह जो पोषण करता है, शक्ति देता है। 

उर्वारुक- ककड़ी। 

इवत्र- जैसे, इस तरह। 

बंधनात्र- वास्तव में समाप्ति से अधिक लंबी है। 

मृत्यु- मृत्यु से र्मुक्षीय, हमें स्वतंत्र करें, मुक्ति दें। 

मा अमृतात- अमरता, मोक्ष।

अगर हम सरल भाषा में इसका एक साथ अर्थ करें तो Maha Mrityunjaya Mantra का hindi में अर्थ इस प्रकार से होगा -

इस पूरे संसार के पालनहार, तीन नेत्र वाले भगवान शिव की हम पूजा करते हैं। इस पूरे विश्‍व में सुरभि फैलाने वाले भगवान शंकर हमें मृत्‍यु के बंधनों से मुक्ति प्रदान करें, जिससे कि मोक्ष की प्राप्ति हो जाए।

Maha Mrityunjaya Mantra Vidhi

वैसे तो आप रोजाना इस मंत्र का जाप कर सकते हैं लेकिन श्रावण मास में इस मंत्र का जाप करना बहुत ही फायदेमंद होता है। तो आइये जानते हैं इस मंत्र को जाप करने की सबसे बढ़िया विधि कौन सी है -

  1. प्रातः अमृत बेला में उठकर स्नान करें। 
  2. अब मंदिर या घर में शिव प्रतिमा के समक्ष आसन ग्रहण करें। 
  3. धूपबत्ती व घी का दीपक जलायें। 
  4. अब भगवान भोले नाथ को पंचामृत - घी, दूध, दही, शहद और शक्कर से स्नान करवायें। इसके बाद शुद्ध जल से स्नान करवाएं। 
  5. अब भोलेनाथ को चन्दन लगाकर साबुत सुपारी, चावल व सफेद फूल अर्पित करें। 
  6. इसके बाद आँख बंद करके भोलेनाथ का ध्यान करते हुए महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें। 

इस विधि से रोजाना पूजन करने से भगवान भोलेनाथ आपकी सभी इच्छाओं को पूरा करेंगे। इस मन्त्र का जाप करने से सभी प्रकार की बीमारी नष्ट होती हैं। 

Maha Mrityunjaya Mantra Benefits in Hindi

अब आपको महामृत्युंजय मंत्र का अर्थ व विधि के बारे में अच्छे से ज्ञान हो गया है। अब हम आपको महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने से होने वाले फायदों के बारे में बताते हैं -

यह मंत्र सभी प्रकार की शारीरिक व मानसिक बीमारियों का हरण करता है। 

आजके समय में बहुत सारे युवा तनाव व डिप्रेशन जैसी समस्याओं से परेशान हैं। कुछ लोग तो इन बीमारियों से दुखी होकर आत्महत्या भी कर लेते हैं। इस मंत्र के जाप से आसानी से इन बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है। 

इस मंत्र का जाप करने से सजा का य, प्रॉपर्टी विवाद,  अकाल मृत्यु, धन-हानि, गृह क्लेश, महारोग, ग्रहबाधा, ग्रहपीड़ा, समस्त पापों से मुक्ति मिलती है। 

आपको महामृत्युंजय मन्त्र से जुड़ी एक और बढ़िया ज्ञान की बात बतातें हैं। इस मंत्र में कुल 33 अक्षर हैं ये 33 अक्षर 33 देवताआं के प्रतिक माने जाते है। इन  33 देवताओं में 8 वसु, 11 रुद्र, 12 आदित्यठ, एक प्रजापति और एक षटकार है। इन तैंतीस देवताओं की सम्पूर्ण शक्तियां महामृत्युंजय मंत्र से निहीत होती है।

इस लेख में आपने क्या सीखा?

इस लेख में हमने Maha Mrityunjaya Mantra in Hindi के बारे में विस्तार से जाना है। इसके साथ ही हमने महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने की विधि के बारे में भी जाना। इस लेख को ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों के साथ शेयर करें। ताकि हमारे सनातन धर्म के बारे में लोगों को ज्यादा ज्ञान हो सके। आपको यह लेख कैसा लगा, कमेंट करके जरूर बताएं। कमेंट बॉक्स में OM लिखकर अपनी प्रतिक्रिया दें। 

No comments

Powered by Blogger.